एक ऐसे ब्लॉग की शुरुआत कैसे करें जो आपको 1 महीने में $3817 कमा कर दे

ऑनलाइन काम करने की दुनिया में कुछ बड़ा हो रहा है यह कैसे संभव है कि हर उम्र और व्यक्तित्व के लोग इंटरनेट पर नए नए ब्लॉग बना रहे हैं और नए-नए ऑनलाइन बिज़नेस शुरू कर रहे हैं

क्या कुछ वाक्य और चित्रों के मिश्रण से सच में कुछ चमत्कार हो सकता है?

और क्या सचमुच लोग आपके और मेरे जैसे कुछ साधारण लोगों की विचारधारा को पढ़ना पसंद करते हैं|

यह ब्लॉग जिसको आप अभी देख रहे हैं 1 साल के अंदर 24,36,112 लोग इस ब्लॉग को पढ़ते हैं और यह ब्लॉग 1 साल में लाखों डॉलर कमाता है| नीचे दिए गए मेरे 30 दिन के आंकड़ों पर जरा गौर कीजिए:

image00

अगर हम विचार करें तो एक ब्लॉग के नजरिए से 381772 एक महीने के हिसाब से बहुत पैसा है| अभी एकदम से तो आप इतना सारा पैसा नहीं बना सकते लेकिन जितना पैसा मैं इस ब्लॉग से बना रहा हूं उस का 100 वां हिस्सा बनाना कोई मुश्किल काम नहीं है|

आज मैं आपको हर वो तरकीब बताने जा रहा हूं जिसकी मदद से आप एक ब्लॉग बना सकते हैं और यह भी सीख सकते की उस ब्लॉग के जरिए 47 मिनट के अंदर अंदर पैसे कमाने कैसे शुरू किए जाए|

पहला कदम: आपके अंदर के सभी विचारों को खंगालिए

अगर आप एक ब्लॉग बनाना चाहते हैं तो आपको कोई बहुत बड़ा विशेष प्रकार का विचार नहीं चाहिए बल्कि आपका ब्लॉग किसी एक विचारधारा पर केंद्रित होना चाहिए याद रखिए आप की विचारधारा चाहे वो कितनी भी अच्छी क्यों ना हो सबसे अलग और सबसे हटकर नहीं हो सकती|

लेकिन आप का तजुर्बा सबसे अलग हो सकता है , आपके लिखने का तरीका सबसे अलग हो सकता है और आपके लिखने की क्षमता इस प्रकार की हो सकती है जो सबको अच्छी लगती है जैसे कि आपके परिवार को और आपके दोस्तों को |

जब यह बात आती है कि आप अपने ब्लॉग का मुख्य विषय का चुनाव करना चाहते हैं तो ऐसे दो सवाल है जिनका जवाब आपको अपने आप से लेना चाहिए|

1- क्या इस विषय के बारे में सीखना मुझे अच्छा लगता है?

अगर आप उस विषय को पसंद नहीं करते तो यह आपके लिखने की कला में भी झलकेगा, जिस विषय पर आप ब्लॉगिंग कर रहे हैं अगर आप उसको पसंद नहीं करते तो आपको उस विषय में ब्लॉगिंग शुरू नहीं करनी चाहिए|

आप किसी भी विषय को चुने लेकिन आपको उस विषय से प्यार होना बहुत जरूरी है और आपके मन में उस विषय के बारे में और ज्यादा जानने की इच्छा होना उससे भी ज्यादा जरूरी है अगर ऐसा नहीं है तो आप बहुत ज्यादा देर तक उस विषय के बारे में नहीं लिख सकेंगे सबसे जरूरी आप निरंतर उस विषय के बारे में लिख सके ताकि आपके ब्लॉग को पढ़ने वाले लोगों की संख्या बढे|

अगर आप अब भी सोच रहे हैं तो उस विषय के बारे में सोचिए जिस के बारे में सलाह लेने के लिए आपके परिवार वाले और आपके दोस्त आपके पास आते हैं वह कुछ भी हो सकता है जैसे कि खान-पान, व्यायाम, रिलेशनशिप या कुछ और यह आप बेहतर जानते होंगे|

2- क्या दूसरे ऐसे लोग हैं जो आपके द्वारा चुने गए विषय के बारे में जानना चाहते होंगे

हो सकता है आपको ऐसा लगता हो कि आप ऐसे अकेले ही हैं जो किसी नौजवान बुनाई करने वाले के बारे में इंटरनेट पर सर्च करना चाहते हैं लेकिन जब आप इस विषय पर गूगल में सर्च करेंगे तो आप पाएंगे कि 539000 लोग और भी हैं जो बुनाई करने के विषय में जानना चाहते हैं|

image11

हो सकता है आपको लगता हो कि आपका विषय बहुत ही विचित्र है या फिर बहुत ही बड़ा है अगर आप एक यात्रा से संबंधित ब्लॉग बनाना चाहते हैं तो कॉमन शब्द जैसे की यात्रा की बजाए और ज्यादा केंद्र शब्द जैसे कि बैग पैक करना को चुने|

मैं आपको सैकड़ों उदाहरण दे सकता हूं लेकिन ज्यादा ठीक रहेगा कि मैं आपको दिखाऊँ :

नीचे किसी शब्द को डालिए और स्वयं देखिए

TOOL

दूसरा कदम: अपने ब्लॉग का नाम और उसके लिए वेब होस्टिंग का चुनाव कीजिए

यह बहुत मजेदार और जरूरी कदम है क्योंकि आपके ब्लॉग का नाम ही आपका ब्रैंड है इसी के जरिए आपको याद रखा जाएगा लेकिन इसको सोचने में ज्यादा समय व्यर्थ ना करें क्योंकि यहां पर जल्दी से कार्य करके उसको समय पर खत्म करना सबसे ज्यादा आवश्यक है|

जब आप किसी ब्लॉग की शुरुआत कर रहे होते हैं तो आपको दो चीजों की जरूरत होती है:

सबसे पहला है डोमेन नेम यही आपके ब्लॉक का नाम है उदाहरण के लिए मेरे ब्लॉग का नाम neilpatel.com है , एक डोमेन नेम आपको लगभग ₹700 में 1 साल के लिए मिल जाएगा अगर आपको शुरुआत में आपका सही डोमेन नेम नहीं भी मिल रहा है तो चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है एक बार ब्लॉग की शुरुआत करने के बाद आप बाद में उस नाम को बदल भी सकते हैं|

दूसरी जरूरी चीज जिसकी आपको आवश्यकता होगी वह है वेब होस्टिंग वेब होस्टिंग एक ऐसी सर्विस है जिसके जरिए आपका ब्लॉग इंटरनेट से देखा जा सकता है|

वेब होस्टिंग के बिना आपके ब्लॉग को इंटरनेट पर कोई नहीं देख सकता और बिना डोमेन नेम के आपके ब्लॉग का कोई पता नहीं होगा तो हम यह कह सकते हैं कि वह बोस्टिंग और डोमेन नेम दोनों एक दूसरे के पूरक है|

अगर आप इंटरनेट पर सर्च करेंगे तो आपको बहुत सारी वेब होस्टिंग कंपनी मिल जाएंगे जिनके जरिए आप अपनी वेब होस्टिंग ले सकते हैं वेब होस्टिंग की कीमत आमतौर पर 3 से 4 हजार डॉलर प्रति महीने होती है| अगर आप अपने ब्लॉग की शुरुआत कर रहे हैं तो आप ब्लूहोस्ट को चुन सकते हैं| यह एक बहुत बड़ी और जानी-मानी कंपनी है मैंने उस कंपनी के साथ एक करार कर रखा है जिसके जरिए आप वहां से वेब होस्टिंग केवल 2.9 $5 प्रति महीने में ले सकते हैं( साथ ही में आप को एक डोमेन नेम भी फ्री में मिलेगा )|

सच कहूं तो बिल्कुल शुरुआती दौर में आपको बहुत सारे संसाधनों की आवश्यकता नहीं होगी जब एक बार ही आपके पास 25000 विजिटर्स प्रति महीने आने लगेंगे तब आप अपने वेब होस्टिंग को अपग्रेड करने के बारे में सोच सकते हैं आप ब्लूहोस्ट के जरिए भी अपने प्लान को अपग्रेड कर सकते हैं|

इस ऑफर के सबसे मजेदार बात यह है कि यह ऑफर आम जनता के लिए उपलब्ध नहीं है और इसके जरिए आपको $175 कीमत के फ्री ऑफर भी मिलेंगे जिसमें से आप कुछ पैसों को गूगल या बिंज एड्स पर खर्च कर सकते हैं और यह सब फ्री डोमेन नेम के अलावा है| नील पटेल के स्पेशल ब्लूहोस्ट ऑफर को लेने के लिए यहां क्लिक करें|

जब आप अपने ब्लॉक का नाम रखने जा रहे हैं तो आपको निम्न बातों को ध्यान में रखना चाहिए:

  1. दूसरी डोमेन नेमस की बजाय डॉट कॉम डोमेन नेम को चुने क्योंकि उसको याद रखना ज्यादा आसान होता है|
  2. कोशिश करें कि आपका डोमेन नेम 2 से 3 शब्दों का हो दुर्भाग्यवश सिंगल शब्दों वाली सभी डोमेन नेम ली जा चुकी है|
  3. हो सके तो अपने डोमेन नेम में उसकी वर्ड को शामिल करने की कोशिश करें जिसके बारे में आप का ब्लॉग है ऐसा करने से लोगों को आपके ब्लॉग को ढूंढने में आसानी होगी और उनको यह भी पता लग जाएगा कि आपका ब्लॉग किस बारे में है ऐसा करने से सर्च इंजन को भी आपके ब्लॉग के बारे में विस्तृत जानकारी मिल पाएगी|
  4. अपने डोमेन नेम में नंबर या हाइफन का इस्तेमाल ना करें क्योंकि ऐसा करने से उसको याद रखना कठिन हो जाता है|
  5. कोशिश करें कि आपका डोमेन नेम ऐसा हो जिस को याद रखना आसान हो|
  6. पर्सनल ब्रांडिंग के लिए अपने नाम या उससे मिलते जुलते किसी शब्द का इस्तेमाल किया जा सकता है|

नीचे दिए गए टूल का इस्तेमाल करें और देखें कि क्या आपके द्वारा सोचा गया डोमेन नेम उपलब्ध है अगर ये उपलब्ध नहीं भी है तो आपको उससे मिलते जुलते कुछ सुझाव भी दिए जाएंगे|

Search for your Domain Name

हो सकता है कि आपको आपका डोमेन नेम ढूंढने में कुछ समय लगे लेकिन सच मानिए इसके ऊपर समय लगाना बिल्कुल सही है क्योंकि आखिरकार यही आपका ब्रैंड नेम है|

तीसरा कदम: वर्डप्रेस को इंस्टॉल करना – आपके ब्लॉगिंग करने का सॉफ्टवेयर

आप अपने ब्लॉग की शुरुआत बिना ब्लॉगिंग सॉफ्टवेयर के नहीं कर सकते मैं अपने सभी ब्लॉगस को वर्डप्रेस पर चलाता हूं क्योंकि यह समझने में आसान है, फ्री है और बहुत शक्तिशाली है|

अगर आप तकनीक के बारे में बहुत ज्यादा नहीं भीजानते फिर भी आपको वर्डप्रेस इंस्टॉल करने में सिर्फ 5 क्लिक्स लगेंगे|

आइए देखते हैं स्कोर किस प्रकार किया जा सकता है :

जैसे ही आपने फ्री डोमेन नेम और वेब होस्टिंग ले ली है आप उसमें लॉग इन कीजिए और इंस्टॉल वर्डप्रेस आइकन पर क्लिक कीजिए:

image32

इसके बाद डू योरसेल्फ को चुनिए और इंस्टॉल बटन पर क्लिक कीजिए |

image16

इसके बाद चेक डोमेन बटन पर क्लिक कीजिए:

image21

बाकी के दो क्लिक वर्डप्रेस के नियम और शर्तों को स्वीकृति देने और अपने इंस्टॉल को संपूर्ण करने के लिए होंगी|

image60

इस प्रकार मात्र 1 मिनट के समय में आपका ब्लॉग पूर्ण रूप से वर्डप्रेस पर सेट अप हो जाएगा और चलने लगेगा|

चौथा कदम – वर्डप्रेस थीम के जरिए अपने ब्लॉग का डिजाइन तैयार करना

ब्लॉगिंग की दुनिया में वर्डप्रेस के डिजाइन को थीम कहा जाता है|

जब आप सबसे पहली बार वर्ल्ड प्रेस थीम को इंस्टॉल करेंगे तो आपका ब्लॉग कुछ इस प्रकार का दिखाई देगा:

image24

यह कोई सबसे अच्छा दिखने वाला डिजाइन तो नहीं है लेकिन अब इस पर भी काम कर सकते हैं|

यूँ तो वर्डप्रेस की हजारों थीम है जिनमें से एक को आप चुन सकते हैं लेकिन ऐसा होना भी संभव है कि कि आप एक बहुत ही बेहतरीन थीम की तलाश करते रहे और किसी को भी ना चुनें और आगे ना बढ़ पाए|

आप किसी भी थीम को किसी भी समय पर बदल सकते हैं तो सही डिजाइन या थीम की तलाश में अपना समय व्यर्थ ना करते रहे|

सबसे पहले आपको वर्डप्रेस के एडमिनिस्ट्रेशन पैनल के अंदर जाना होगा इसके अंदर जाने के लिए आपको yourdomain.com/wp-admin पर क्लिक करना है|

इसके बाद अपना यूजर नेम और पासवर्ड डालिए और लॉगइन पर क्लिक कीजिए|

image08

हो सकता है शुरुआत में वर्डप्रेस का डैशबोर्ड समझना आपको थोड़ा मुश्किल लगे लेकिन समय के साथ-साथ आप इसको अच्छे प्रकार से समझने लगेंगे|

image22

कोई नई थीम को इंस्टॉल करने के लिए अपीयरेंस मैन्यू में जाएं और उसके बाद थीम्स पर क्लिक करें|

image29

वर्डप्रेस के साथ कुछ थीम्स आती है जैसे कि उनकी 20 – {साल} थीम्स|

इसकी बजाए हम किसी बहुत अच्छी दिखने वाली थीम को सर्च करेंगे जिसको देखते ही लोग पसंद करने लगे उसके बाद एड न्यू बटन पर क्लिक करें जिसके जरिए आप हजारों नई वर्डप्रेस थीम्स देख पाएंगे|

image04

हो सकता है आपके थीम को सेलेक्ट करने का नजरिया मेरे नजरिए से अलग हो लेकिन वर्डप्रेस के अंदर “फीचर फिल्टर” है जिसके द्वारा आप किसी ऐसे विकल्प को सर्च कर सकते हैं जो आपके स्टाइल के हिसाब से हो |

image58

यहाँ पर 3 श्रेणियां है : लेआउट फीचर्स और सब्जेक्ट| फिल्टर रिक्वेस्ट कुछ इस प्रकार का दिखाई देता है:

image31

फिल्टर्स को चुनने के बाद आप अपने सामने एक से बढ़कर एक थीम देख पाएंगे जिन को डिजाइन करने की कीमत हजारों डॉलर में है क्योंकि मैं आपको पसंद करता हूं इसलिए मेरी तरफ से यह आपके लिए फ्री है| 😉

image34

अगर आप किसी थीम के थंबनेल पर क्लिक करेंगे तो तुरंत ही आप उसका वह प्रारूप देख पाएंगे कि आपके ब्लॉग पर वह थीम किस प्रकार की लगेगी उसका विश्लेषण कीजिए अगर आप के हिसाब से और आपके स्टाइल के हिसाब से यह थीम ठीक है या नहीं |

अगर आपके स्टाइल के हिसाब से वह प्रारूप ठीक है तो आप इंस्टॉल बटन पर क्लिक कर सकते हैं|

image57

एक बार इंस्टॉलेशन पूरा हो जाने के बाद आप को एक्टिवेट बटन पर क्लिक करना होता है|

उन थीम्स में से आपको कोई थीम पसंद नहीं आ रही या अपनी पसंद की थीम आपको नहीं मिल पा रही तो बहुत सी प्रीमियम थीम्स भी उपलब्ध है जिनको आप निम्न वेबसाइटों से खरीद सकते हैं:

  • थीम फॉरेस्ट
  • एलिगेंट थीम्स
  • स्टूडियो प्रेस
  • थ्राईव्  थीम्स

अब तक आप की थीम एक्टिवेट हो चुकी है और आप बिल्कुल तैयार है चलिए अब देखते हैं कि हम अपनी थीम को अपने हिसाब से कस्टमाइज कैसे कर सकते हैं:

image06

पांचवा कदम: अपने वर्डप्रेस ब्लॉग को अपने हिसाब से कस्टमाइज और ऑप्टिमाइज करना

वैसे तो अनगिनत कस्टमाइजेशंस है जो आप अपने वर्डप्रेस ब्लॉग के साथ कर सकते हैं लेकिन हम यहां पर सिर्फ जरूरी चीजों तक ही सीमित रहेंगे|

थीम्स आपके वर्डप्रेस ब्लॉग के डिजाइन की बुनियाद है और सबसे जरूरी चीजें इसी के अंदर समावेशित है वर्ल्ड प्रेस के अंदर बहुत सारे प्लगइन भी है जो आपके ब्लॉग की कार्य क्षमता को बढ़ा सकते हैं या उसमें कुछ बदलाव कर सकते हैं|

उदाहरण के तौर पर आप प्लगइन का इस्तेमाल आप अपने ब्लॉग के अंदर फोरम को ऐड करने के लिए, कॉन्टैक्ट फॉर्म को ऐड करने के लिए या स्लाइडर को ऐड करने के लिए भी कर सकते हैं देखने में यह बहुत ही आसान सी सुविधाएं लगती हैं लेकिन आमतौर पर यह शुरुआत में उपलब्ध नहीं होती हैं|

सबसे पहला कदम है अपनी एक्टिवेट हुई थीम पर जाकर कस्टमाइज बटन पर क्लिक करें:

image01

साइड बार में दिया गया मेनू ऑप्शन अलग हो सकता है और यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप ने कौन सी थीम को चुना है सबसे जरूरी श्रेणी जिसको हमें एडिट करना है वह है “साइड आईडेंटिटी”|

image62

यहाँ पर आप अपने ब्लॉग का नाम डाल सकते हैं या या आप चाहे तो उससे जुड़ी हुई टैग लाइन डाल भी सकते हैं, जब आप ऐसा कर ले तो सेव और पब्लिश बटन पर क्लिक करें|

image59

सर्च इंजन ट्रेफिक के लिए ऑप्टिमाइज करना

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन अरबों रुपए से जुड़ा हुआ कारोबार है|

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके जरिए आप अपनी वेबसाइट के अंदर कुछ इस प्रकार के बदलाव करते हैं जिनके जरिए सर्च इंजन में आपकी वेबसाइट को खोजना आसान हो जाए, जब भी आपकी वेबसाइट से जुड़े हुए किसी शब्द या वाक्य के बारे में सर्च किया जाए तो आपकी वेबसाइट सर्च इंजन रिजल्ट में दिखाई दे|

मेरे कामयाब होने का बहुत बड़ा राज यह भी है कि जब लोग मेरी वेबसाइट से जुड़े हुए शब्दों या वाक्यों को सर्च इंजन में सर्च करते हैं तो उनको मेरी वेबसाइट दिखाई देती है इससे ही मुझे अपना इतना बड़ा नेटवर्क बनाने में कामयाबी मिली है|

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन आपके लिए नया है तो हो सकता है शुरू में आपको यह थोड़ा मुश्किल लगे |

लेकिन वर्डप्रेस के जरिए सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का यह तकनीकी काम आप बहुत आसानी के साथ कर सकते हैं|

आपके सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का सबसे बड़ा हिस्सा असली लोगों के लिए भली-भांति केंद्रित कंटेंट तैयार करना है चाहे वह आप शब्दों के जरिए करें वीडियो के जरिए करें या चित्रों के जरिए करें एक ब्लॉगर होते हुए आप का सबसे बड़ा कार्य अपने रीडर्स के साथ संबंध बनाकर रखना और उनमें चाह पैदा करना कि वह बार-बार आपकी वेबसाइट पर आकर आप के कंटेंट को पढ़ें|

ऐसा करने के लिए आप अपने वेबसाइट से जुड़े हुए मुख्य बिंदुओं के ऊपर अपने रीडर्स के साथ संवाद भी कर सकते हैं|

शुरुआत करने के लिए आप को योस्ट एस सी ओ नाम का प्लगिन डाउनलोड करना पड़ेगा|

ऐसा करने के लिए दायीं और दिए गए प्लगइन मेनू पर जाएं और ऐड न्यू पर क्लिक करें|

image65

आप योस्ट एस सी ओ को सर्च करें सर्च रिजल्ट्स में यह सबसे ऊपर दिखाई देगा|

इंस्टाल नाउ के बटन पर क्लिक करें और उसके बाद एक्टिवेट बटन को दबाए ऐसा करने से इंस्टॉलेशन पूरा हो जाएगा|

image23

प्लगिन सेटिंग्स को देखने के लिए आप न्यू एस सी ओ मैन्यू पर जा सकते हैं या सबसे ऊपर दिए गए आइकन पर भी क्लिक कर सकते हैं|

image40

 

dashboard से योर इन्फो पर जाए और अपने ब्लॉग की बुनियाद पक्की करें |

image12

सबसे पहले यह आश्वस्त करें कि आपकी वेबसाइट का नाम और उसकी टैगलाइन सही है उसके बाद अपने आप को आईडेंटिफाई करें|

सेव चेंज बटन को दबाए और अब हम अगले कदम की तरफ बढ़ेंगे|

image55

आप वेबमास्टर टूल्स टैब पर जाएं और गूगल सर्च कंसोल पर क्लिक करें गूगल सर्च कंसोल एक ऐसा वेबमास्टर टूल है जो आपकी वेबसाइट को उनके सर्च इंडेक्स से जुड़ने में मदद करेगा जिससे कि आपकी वेबसाइट की लोकप्रियता बढ़ सके|

image02

अपने गूगल अकाउंट में साइन इन करें चाहे आपका जीमेल अकाउंट हो या गूगल ड्राइव अकाउंट हो|

image50

लॉग इन करने के बाद अल्टरनेट मेथड्स टैब पर क्लिक करें और एच टी एम एल टैग को सेलेक्ट करें|

image13

ऐसा करने पर एक नया ड्रॉपडाउन मैन्यू दिखाई देगा जिसमें आपका सर्च कंसोल मेटा कोड होगा आपको यह कोड कॉपी करना है |

image48

इस कॉपी किए गए मेटा कोड को गूगल सर्च कंसोल टेक्स्ट बॉक्स में पेस्ट कर दे और सेव चेंजिंस पर क्लिक करें|

image03

सबसे अंत में वेरीफाई बटन पर क्लिक करें|

image14

जैसे-जैसे आप वेबमास्टर सेंट्रल के साथ परिचित होते जाएंगे वैसे ही वैसे आपको तथ्यों के आधार पर अपने ब्लॉग से संबंधित कुछ जरूरी बातें पता लगती रहेगी जैसे कि ऐसे कौन से शब्द या वाक्य है जिनके लिए आपकी वेबसाइट सर्च इंजन में रैंक कर रही है या फिर आपके ब्लॉग में कौन सी कौन सी गलतियां है या फिर आप गूगल को बता सकते हैं जब आप कोई नया पोस्ट लिखते हैं|

इसके बाद जनरल टैब पर जाएं और इंस्टॉलेशन विजार्ड को स्टार्ट करें|

image67

योस्ट एस सी ओ प्लगिन आपको 10 अलग-अलग कार्य पूरे करने के लिए कहेगा जिसके जरिए आपका वर्डप्रेस ब्लॉग पूरी तरह से ऑप्टिमाइज हो जाएगा|

सबसे पहला कदम वेलकम स्क्रीन है जिसको आप छोड़ भी सकते हैं |

दूसरे कदम में उस परिवेश को चुनें जो आपकी वेबसाइट के हिसाब से सबसे ज्यादा सटीक है | सबसे ज्यादा संभावना इस बात की है कि आप प्रोडक्शन परिवेश को चुनेंगे जिसका मतलब यह है कि यह एक असली वेबसाइट है जिसका मकसद अपने तक लोगों को खींचना है|

image19

दूसरा कदम है वेबसाइट टाइप इसमें को ब्लॉग चुने करें और नेक्स्ट पर क्लिक करें|

image15

अगले कदम में आप यह तय करेंगे कि आप इसको किस प्रकार से चलाना चाहते हैं एक कंपनी की तरह या एक अकेले इंसान की तरह हम यह कदम पहले ही पूरा कर चुके हैं इसलिए आप उसको यहां पर छोड़ भी सकते हैं|

image26

पांचवे कदम में आप अपने ब्लॉग से जुड़े हुए सोशल प्रोफाइल जैसे कि फेसबुक टि्वटर आदि को जोड़ सकते हैं पूरा होने पर नेक्स्ट पर क्लिक करें|

छठा कदम विजिबिलिटी को दर्शाता है इसमें आप डिफॉल्ट सेटिंग को भी चुन सकते हैं जिसमें पोस्ट और पेज को विजिबल और मीडिया को हिडन किया गया है|

image49

अगले कदम मैं आपको यह निर्धारित करना है कि आपकी वेबसाइट पर आप अकेले लेख लिखेंगे या बहुत से लोग हैं जो आपकी वेबसाइट पर लेख लिखेंगे अगर आप भविष्य में भी और लोगों को अपनी वेबसाइट से जोड़ना चाहें तो आप इन सेटिंग को बाद में भी बदल सकते हैं|

image09

आप चाहते हैं कि योस्ट एस सी ओ प्लगिन गूगल सर्च कंसोल से डाटा को ले तो इस कदम में आप यह कर सकते हैं|

“ गेट गूगल ऑथराइजेशन कोड” बटन पर क्लिक करें|

image30

यहाँ पर एक नया पॉप अप खुलेगा जिसमें आप योस्ट एस सी ओ प्लगिन को सर्च कंसोल से डाटा लेने के लिए स्वीकृति दे सकते हैं स्वीकृति को कंफर्म करने के लिए एलाऊ बटन पर क्लिक करें|

image56

अगले दम में आप अपनी वेबसाइट के नाम को सत्यापित कर सकते हैं और टाइटल सेपरेटर को चुन सकते|

टाइटल सेपरेटर एक चिन्ह है जो आपकी ब्लॉग पोस्ट के टाइटल और आपकी वेबसाइट के नाम को अलग करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है , गूगल पर आपकी वेबसाइट को सर्च करने वाले लोग इसी नाम के जरिए आपको देखेंगे|

उदहारण के तौर पर अगर आपने यह ब्लॉग पोस्ट गूगल में ढूंढना है तो आपने देखा होगा

एक ब्लॉक की शुरुआत कैसे करें – नील पटेल

ब्लॉग सेपरेटर के चिन्ह को चुनना आपकी अपनी पसंद पर निर्भर करता है जब आप इसे चुन ले तो नेक्स्ट पर क्लिक करें|

image54

कह सकते हैं आखरी कदम कोई कदम नहीं है बल्कि यह एक बधाई संदेश है जो जो इस बात को दर्शाता है कि आपने अपने ब्लॉग का सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन पूरा कर लिया है|

एक्स एम एल साइटमैप

योस्ट एस सी ओ प्लगिन की आखरी सेटिंग है अपनी वेबसाइट के एक्स एम एल साइटमैप को कॉन्फ़िगर करना | एक्सएमएल साइटमैप एक ऐसी फाइल है जो आपकी वेबसाइट के हर एक यू आर एल के बारे में बताती है |

इससे गूगल को यह पता लगता है कि आपकी वेबसाइट के नए लेख और पेज को क्रॉउल कैसे करना है, योस्ट एस सी ओ प्लगिन यह काम आप के लिए खुद-ब-खुद कर देता है इसलिए आप बस इसे क्लिक करें और भूल जाएं|

इसके बाद फीचर्स टैब में जाकर एडवांस्ड सेटिंग पीजिज को इनेबल करें और सेव कर दें|

image07

साइडबार में SEO पर जाएँ और  “XML Sitemaps” को चुने|

image25

इसके बाद यूजर साइटमैप टैब पर जाएं और ऑथर यूजर साइटमैप को इनेबल करें इसके बाद सेटिंग्स को सेव कर दें|

image38

चाहे तो इससे जुड़ी हुई सेटिंग्स के बारे में और भी बदलाव कर सकते हैं लेकिन अब तक की गई सेटिंग से आपका काम चल जाएगा|

परमालिंक्स को सेट अप करना :

परमालिंक्स एक समान रहने वाले ऐसे हाइपरलिंक है जिन पर क्लिक करके आप किसी ब्लॉग पोस्ट पर या किसी पेज पर जा सकते हैं वर्डप्रेस की सामान्य परमालिंक्स सेटिंग है yourdomain.com/postID

image47

किसी भी प्रकार से अच्छा नहीं लग रहा और इसे देखकर कोई भी यह नहीं समझ पाएगा कि आपका पेज जी आपकी वेबसाइट किस बारे में है|

तो इस परमालिंक्स को ठीक करने के लिए हमें कुछ बदलाव करना होगा|

सबसे पहले दाएं तरफ बने हुए साइड बार में जाएं और माउस ओवर सेटिंग्स में जाकर परमालिंक्स को चुने|

image39

यहाँ पर कुछ विकल्प दिए गए हैं जिनमें से आप चुन सकते हैं मैंने चुना है पोस्ट नेम विकल्प को जिसके जरिए मैं अपने ब्लॉग पोस्ट के टाइटल में कीवर्ड्स का इस्तेमाल कर सकता हूं, और यह देखने में भी अच्छा लगता है|

image44

सिलेक्शन करने के बाद सेटिंग्स को सेव कर दें इसका असर आप बाद में देख सकेंगे|

अगर आप भी मेरे साथ हैं तो मुझे लगता है अब तक आपने अब तक एक डोमेन नेम और वेब होस्टिंग खरीद लिया होगा और अपने वर्डप्रेस ब्लॉग पर कोई ना कोई थीम भी इंस्टॉल कर के उसे ऑप्टिमाइज भी कर लिया होगा ताकि सर्च इंजन आपकी वेबसाइट को आसानी से खोज सकें|

अबी तक हमने ब्लॉगिंग से जुड़ी हुई सेटिंग्स के बारे में अच्छी प्रकार से समझ लिया है अब आप अपने ब्लॉग में क्या लिखना चाहेंगे?

चलिए देखते हैं…

छटा कदम – ब्लॉक टॉपिक के बारे में मंथन करना

तकनीकी तौर पर तो आपका ब्लॉग पूरी तरह से सेट है और आप अपने आप पहला लेख लिखने के लिए तैयार भी हैं लेकिन जब बात आती है किसी टॉपिक को चुनकर उस पर लेख लिखने की तो आप की दुनिया एक सीप के समान है|

सबसे ज्यादा ब्लॉग पोस्ट आपके खुद के अनुभव, जुनून, कामयाबी, असफलता या किसी नई बात को सीखने से बनते हैं|

एक ब्लॉग पोस्ट लिखने से पहले आमतौर पर लोग अपने आप से यह सवाल करते हैं:

  • में किस बारे में लिखूं?
  • किस विषय में अपना ब्लॉग बनाया जाए?
  • क्या मुझे ब्लॉगिंग शुरु कर देनी चाहिए?

तो स्वाभाविक तौर पर अपने ब्लॉग पोस्ट की शुरुआत करने से पहले आपको भी खुद से कुछ सवाल पूछने होंगे, मैं अपने ब्लॉग पोस्ट को लिखने से पहले खुद से कुछ सवाल करता हूं और एक व्यवस्थित प्रक्रिया को फॉलो करता हूं जिससे कि मुझे नए नए ब्लॉग टॉपिक आइडिया मिल सके|

चिंता करने की कोई बात नहीं है कोई मुश्किल काम नहीं है और इसको करने में आपको बहुत ज्यादा समय नहीं लगेगा|

इस प्रक्रिया को पूरा करने से आप आधे घंटे के अंदर ही कम से कम 50 विषय ढूंढ पाएंगे जिसके ऊपर आप ब्लॉगिंग कर सकते हैं|

एक कागज और कलम लीजिए और अपना पसंदीदा वर्ड प्रोसेसिंग खोल लीजिए|

इस कार्य को करने का मकसद है कि हर पूछे गए सवाल के लिए आपको 10 जवाब लिखने और अगर आप दर से ज्यादा भी सोच सकते हैं तो उनको भी लिख लीजिए|

इसको करने के लिए आपको अपने श्रोताओं की तरह सोचना होगा और इन 5 सवालों के जवाब देखने होंगे:

1 मेरे श्रोताओं को क्या पढ़ना पसंद है या उन्हें उत्तेजित करता है?

उदहारण के तौर पर:

  • एक गोल्फ खिलाड़ी के रूप में, मैं शॉट मारकर उत्साहित हो जाता हूं। मैं अपने मानसिक प्रदर्शन से रोमांचित हूं। मैं स्वस्थ जीवन के बारे में जुनूनी हूं।
  • एक ग्रहणी होने के नाते मैं परिवार के लिए अनुकूल बजट बनाने से उत्साहित होती हूं। मुझे नींद की ट्रेनिंग से लगाओ है। मुझे होमस्कूलिंग का शौक है।
  • एक कैंपर होने के नाते मुझे ऐसी जगह ढूंढना पसंद है जिनके बारे में कोई नहीं जानता हो| मुझे न्यूनतम जीवन जीने का शौक है।

2 ऐसी कौन सी चुनौतियां हैं जिनका सामना मेरे श्रोताओं को करना पड़ता है?

उदहारण के तौर पर:

  • गोल्फेर्स गेंद को खिसकाने के लिए संघर्ष कर सकते हैं
  • घर पर ग्रहणीओं को भोजन बनाना चुनौतीपूर्ण लग सकता है
  • कैम्पर्स पैकिंग लाइट के लिए संघर्ष कर सकते हैं

3 मेरे पाठकों के लक्षण किस प्रकार के हैं

उदहारण के तौर पर:

  • गोल्फरों में भावनात्मक स्थिरता होती है|
  • ग्रहणीओं के अंदर धैर्य और समझदारी दोनों होते हैं|
  • कैम्पर्स साहसी और साधनों से परिपूर्ण होते हैं|

 

आपके पाठकों को आपके ब्लॉगिंग विषय के बारे में क्या चीज सबसे अधिक पसंद है?

उदहारण के तौर पर:

  • गोल्फेर्स को सबसे उत्तम बनने की चुनौती पसंद है |
  • ग्रहणीओं को अपने बच्चे के मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक विकास का एक हिस्सा बनना पसंद है।
  • कैम्पर्स शहर के व्यस्त जीवन से दूर रहना पसंद करते हैं|

 

आपके पाठकों को आपके ब्लॉगिंग विषय के बारे में क्या चीज सबसे अधिक नापसंद है?

उदहारण के तौर पर:

  • गोल्फेर्स  ऐसे पार्टनर के साथ खेलने से नफरत करते हैं जो दिन भर शिकायत करते रहते हो।
  • ग्रहणीओं को दूसरों द्वारा नीचा दिखाए जाने से नफरत होती है|
  • कैम्पर्स को जिंदा खाए जाने का डर सताता है

अब आपको समझ में आ गया होगा अब आपके पास लगभग 50 उत्तर है जिनके बारे में आप अपने ब्लॉग पोस्ट को लिखना शुरू कर सकते हैं .

नीचे कुछ उदाहरण दिए गए हैं जो कि ऊपर दिए उत्तरो से ही बनाए गए हैं:

  • हर बार बढ़िया शॉट लगाए जाने के बारे में लेख
  • तीन कारण जिसकी वजह से आप बढ़िया शॉट नहीं लगा पा रहे और उसको ठीक करने का तरीका
  • ऐसे 9 तरीके जिन को अपनाने से आप मंजे हुए खिलाड़ियों की तरह खेल सकते हैं
  • बाल सीध में ना होने पर भी बढ़िया शॉट किस प्रकार लगाएं

हमेशा एक आकर्षक शीर्षक बनाने का प्रयास करें जो आपके पाठकों को अपनी ओर खींचे और बाकी के लेख में भी एक दो ऐसी बातों का उल्लेख करें जो उनका ध्यान आकर्षित करें|

सातवा कदम – अपना पहला बढ़िया लेख लिखें

वर्डप्रेस आपके पसंदीदा वर्ड प्रोसेसिंग टूल्स जैसे ही एक टूल का उपयोग करता है। नई पोस्ट सीधे आपके वर्डप्रेस एडमिन पैनल से बनती हैं।

बाएं तरफ के साइडबार में जाकर “पोस्ट” पर क्लिक करें।

image20

ऐसा करने से आपके द्वारा पहले लिखे गए सभी लेख यहां पर दिखाई देने लगेंगे क्योंकि हम बिल्कुल नए सिरे से शुरुआत करें इसलिए हमें यहां पर अभी कुछ भी दिखाई नहीं देगा|

एक नई पोस्ट बनाने के लिए साइड बार के सबसे ऊपरी हिस्से में दिए गए एड न्यू बटन पर क्लिक करें|

image61

ऐसा करने से आप एडिटर पर आ जाएंगे और अब आप अपना लेख लिखना शुरू कर सकते हैं|

image05

टोगल आइकन पर क्लिक करने से आपके पास अपनी पोस्ट को और ज्यादा फॉर्मेट करने के कुछ विकल्प भी आ जाएंगे | यह नए टूल विकल्प खासतौर से तब उपयोगी होते हैं जब आप अपने लेख के अंदर सब हेडिंग बनाते हैं

image42

सबसे पहली चीज को सबसे पहले करते हैं सबसे पहले पिछले चरण में सोचे गए टाइटल को लिखें ऐसा करते ही वर्डप्रेस द्वारा एक नया परमालिंक बना दिया जाएगा जो कि आपके ब्लॉग पोस्ट के कीवर्ड से जुड़ा हो|

image33

अपने लेख को लिखना शुरू कर सकते हैं और तब तक लिख सकते हैं जब तक आप अपने लेख से खुश महसूस ना करे ।

image45

अपने ब्लॉग पोस्ट में विज़ुअल एसेट्स जैसे की चित्रों इत्यादि को भी जोड़ना चाहेंगे । आमतौर पर चित्र पाठकों को आकर्षित करने में मदद करते हैं और अक्सर शब्दों से बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं।

नया चित्र जोड़ने के लिए, सुनिश्चित करें कि आपका कर्सर उस स्थान पर है जहां आप चाहते हैं कि आपका चित्र दिखाई दे। उसके बाद ” ऐड मीडिया” बटन पर क्लिक करें।

image46

अपने द्वारा चुने गए चित्र को मीडिया बॉक्स में खींचें और छोड़ें।

image66

अपने चित्र के अपलोड होने के बाद, अपने चित्र का चयन करें और “इन्सर्ट इन टू पोस्ट ” बटन पर क्लिक करें। यदि आप चाहें तो आप चित्र का आकार बदल सकते है या चित्र के साथ कोई हाइपरलिंक जोड़ सकते हैं।

image18

आपका चित्र स्वयं आपके पोस्ट में सम्मिलित हो जाएगा । आपका पोस्ट कुछ इस प्रकार का दिखेगा:

image27

अपना लेख पूरा करने के बाद, आपको योस्ट एस सी ओ प्लगिन का उपयोग करके कुछ अंतिम ऑप्टिमाइजेशन करने की आवश्यकता होगी।

योस्ट एस सी ओ प्लगिन के अंदर आपके लेख से जुड़ी हुई कुछ सेटिंग्स होती हैं जिनको आप मेन टेक्स्ट एरिया के तुरंत नीचे देख सकते हैं|

इसमें सबसे महत्वपूर्ण चार सेटिंग्स है “एस सी ओ टाइटल”, “स्लग”, “मेटा डिस्क्रिप्शन” और “फोकस कीवर्ड”

इन सेटिंग्स को पूरा करने से आपको आपकी पोस्ट का एक ऐसा प्रारूप दिखाई देने लगेगा जो कि गूगल सर्च इंजन रिजल्ट में दिखाई देगा|

ऐसे टाइटल लिखे जो पाठकों को अपनी तरफ आकर्षित करें और ऐसा मैटर डिस्क्रिप्शन लिखें जिससे यह पता लग सके कि आपकी पोस्ट किस बारे में है|

जैसे ही आप अपने शीर्षक और विवरण को ऑप्टिमाइज़ करना शुरू करते हैं योस्ट एस सी ओ प्लगिन आपको बताता रहेगा कि यह ठीक है या नहीं |

image52

योस्ट एस सी ओ प्लगिन हरे या लाल रंग से यह बताता है कि आपका पोस्ट ठीक है या नहीं कोशिश करें कि आप के अधिकतर प्वाइंट्स हरे रंग में हो लेकिन अगर वह हरे रंग में नहीं भी है तो भी चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है अगर आप देखते हैं कि आपका 80% प्वाइंट्स हरे हैं तो आप समझ सकते हैं कि आप ठीक कर रहे हैं|

image28

अंत में अगर आपके ब्लॉग से जुड़ा हुआ कोई थंबनेल है तो आपको उसके लिए आपको एक फीचर्ड इमेज सेट करनी होगी फीचर्ड इमेज एक ऐसा थंबनेल है जो आपकी हर पोस्ट के ऊपर प्रदर्शित होगा|

ऐसा करने के लिए दाईं तरफ दिए गए साइड बार में जाएं और सेट फीचर्ड इमेज पर क्लिक करें|

image17

ऐसा करने से एक नई विंडो खुलेगी और उसमें से जिस चित्र को चाहे उसे आप फीचर्ड इमेज सेट कर सकते हैं एक बार अपलोड पूरा होने पर सेट फीचर्ड इमेज बटन को दबाएं|

image35

अपनी पोस्ट प्रकाशित करने से पहले, आप देख सकते हैं आपका ब्लॉग पोस्ट कैसा दिखेगा ऐसा करने के लिए पेज के सबसे ऊपरी हिस्से में दिए गए प्रीव्यू बटन पर क्लिक करें|

image37

इससे पहले कि आप पब्लिश बटन को दबाएं आपको यह सुनिश्चित कर लेना होगा कि क्या यह लेख वैसा दिखाई दे रहा है जैसा आप इसे बनाना चाह रहे थे|

नीचे कुछ कदम दिए जा रहे हैं जिनको आप को पब्लिश बटन को दबाने से पहले जांच लेना चाहिए :

  • हमेशा संवाद करने के तरीके से लिखें
  • क्या आपका लेख स्वाभाविक रूप से चल रहा है
  • क्या आप का लेख ठीक से पढ़ा जा रहा है
  • क्या  आपने भली-भांति हेडिंग्स का इस्तेमाल किया है
  • क्या आपने बुलेट प्वाइंट्स और लिस्ट का इस्तेमाल किया है
  • क्या आपने इस बात को सुनिश्चित कर लिया है कि आपके लेख में कोई गलतियां नहीं है

अगर आप यह सब जांच चुके हैं तो आप अपना पहला ब्लॉग पोस्ट प्रकाशित करने के लिए तैयार हैं|

और ऐसा करने के लिए पेज के सबसे ऊपरी हिस्से पर जाएं और तुरंत पब्लिश् बटन को दबा दें|

image51

आपका लेख कुछ इस प्रकार का दिखाई देगा:

image41

बधाई हो। आपने सफलतापूर्वक एक ब्लॉग पोस्ट लिख लिया है जो बहुत अच्छा लग रहा है और सर्च इंजन के लिहाज से भी अनुकूल है। ऐसा कर के आपको अच्छा लग रहा होगा ?

आठवां कदम – एक संपादकीय कैलेंडर बनाएं

सबसे बड़ी भूल जो मैंने बहुत से ब्लॉगर्स को करते हुए देखा है वह यह है कि वह कोई भी लेख तभी लिखते हैं जब उनका खुद का लिखने का मन हो|

वें इस चीज को भूल जाते हैं कि उनके पाठक उनके द्वारा लिखे गए और लेख पढ़ने की की प्रतीक्षा कर रहे हैं जो वह नहीं लिख रहे|

ऐसा करने से विषम परिस्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं हो सकता है वह समय जो आपको एक लेख लिखने में बिताना चाहिए उनको आप एक नेटफ्लिक्स की सीरीज देखने में गवा दे|

जैसे ही आप ब्लॉगिंग की शुरुआत करते हैं उसी समय से जीवन आपके लिए विषम परिस्थितियां उत्पन्न करने लग जाता है

बहुत से ब्लॉगर सही समय पर अपने लेख लिखने को प्राथमिकता नहीं मानते जबकि यह उनकी सबसे पहली प्राथमिकता होनी चाहिए|

मैंने एक हजार से अधिक लेख लिखे हैं और ऐसा इसलिए नहीं है क्योंकि मैं प्रति मिनट 7,000 शब्द टाइप करता हूं।

बल्कि ऐसा इसलिए है कि मैं एक संपादकीय कैलेंडर को ध्यान में रखते हुए अपने लेख लिखता हूं |

शेड्यूल सिर्फ न्यूयॉर्क टाइम्स और हफिंगटन पोस्ट जैसे बड़े प्रकाशनों के लिए नहीं है। वे आपके और मेरे जैसे नियमित लोगों के लिए भी हैं।

आपको भी अपने लेखों के बारे में ऐसे ही सोचना चाहिए

अगर आपने किसी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट ले रखी है या फिर आप अपने दोस्त के साथ कहीं लंच पर जाने वाले हैं तो आप उसे सही समय पर करने की सोचेंगे दुर्भाग्यवश अगर ऐसा नहीं भी हो सका तो आप कोशिश करेंगे कि उस काम को अगले सही उपलब्ध सही समय पर पूरा कर ले|

एक संपादकीय कैलेंडर भी इसी प्रकार कार्य करता है|

एक संपादकीय कैलेंडर के जरिए आप बहुत बड़े बड़े लक्ष्यों को छोटे-छोटे कदमों में बांट सकते हैं जो ना केवल आप को संगठित रखते हैं बल्कि आपके सोशल मीडिया और ईमेल मार्केटिंग संबंधित कार्यों को भी सरल बनाते हैं|

और, आप आश्चर्यचकित होंगे कि कैसे एक संपादकीय कैलेंडर आपके ब्लॉगिंग संबंधित कार्यों को सरल बनाने में आप की कितनी मदद करता है|

अगर हम इस कार्य को अपनी आदत बना ले तो हम जरूर सफल होंगे|

जितनी सख्ती के साथ आप अपने संपादकीय कैलेंडर का पालन करेंगे उतने ही ज्यादा आपके पाठकों की संख्या बढ़ेगी|

तो आपको एक संपादकीय कैलेंडर किस प्रकार से शुरू करना है और उसके लिए कितने पैसे लगेंगे?

कभी नहीं…

आप सिर्फ एक एक्सेल स्प्रेडशीट खोलिए और अगर आपके ब्लॉग पर लिखने वाले लेखक बहुत सारे हैं तो आप गूगल ड्राइव पर गूगल शीट का इस्तेमाल भी कर सकते हैं|

इसकी शुरुआत 4 कॉलम बनाकर कीजिए – प्रकाशन की तिथि, लेख का शीर्षक, कीवर्ड्स और नोट्स|

image64

हो सकता है आपकी जरूरत अलग हो तो आप अपनी मर्जी के हिसाब से एक्सल शीट के अंदर और कॉलम भी ऐड कर सकते हैं, कुछ और ऐड किए जा सकने वाले कॉलम हो सकते हैं लेखक का नाम, कैटेगरी इत्यादि|

आप इसे जितना सरल रखेंगे, उसका पालन करने में आप को उतनी ही आसानी होगी।

आपको कब और कितनी बार लेख लिखना है इसका अंदाजा आप अपने संपादकीय कैलेंडर को देख कर लगा सकते हैं जो कि आप अपने आईफोन में रख सकते हैं, एंड्रॉयड फोन में रख सकते हैं या अपने फ्रिज के साथ भी चिपका सकते हैं|

महीने में एक बार? हफ्ते में एक? या हर रोज?

अपने लक्ष्यों को लेकर प्रतिबद्ध रहें, क्योंकि आपका लगातार तय की गयी तिथि को छोड़ना ब्लोगिंग छोड़ने का कारण बन सकती है।

इसके बाद विचार मंथन के समय जो उत्तर आप ने लिखे थे उनको शीर्षक कॉलम में लिख दे |

जरूरी नहीं है कि आप का शीर्षक एकदम परफेक्ट हो लेकिन फिर भी आप उसको शीर्षक वाले कॉलम में लिख दे जब आप अपना लेख प्रकाशित करने लगेंगे आप तब भी इसके अंदर बदलाव कर सकते हैं|

कई बार सबसे अच्छे शीर्षक का विचार आपके दिमाग में तब आता है जब आप अपना लेख पूरा लिख चुके होते हैं क्योंकि तब आपको यह पता होता है कि आपका लेख किस प्रकार का है, यह किसके बारे में लिखा गया है और यह किसके लिए लिखा गया है|

कीवर्ड वाले कॉलम को सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के लिए रखा गया है अगर आप अपना लेख किसी खास कीवर्ड के लिए लिख रहे हैं जिसके लिए आप चाहते हैं कि आपको सर्च इंजन में रैंक किया जाए तो उसकी उस कीवर्ड को यहां लिख सकते हैं|

अगर आपके दिमाग में इस समय कुछ नहीं आ रहा है तो आप कीवर्ड रिसर्च बाद में भी कर सकते हैं|

और सबसे अंत में नोट्स का कॉलम दिया गया है|

आपके दिमाग में आने वाले हर आइडिया को लिखने के लिए यह सबसे उत्तम जगह है नोट्स आपको एक ही लेख पर केंद्रित रहने के लिए प्रेरित करते हैं |

आपको समय सीमा के अंदर रहते हुए कम से कम 25 ब्लॉग पोस्ट्स लिखनी चाहिए जिनके बारे में आप आश्वस्त हो कि आप उनको अपने ब्लॉग में जगह जरूर देंगे|

स ताह में एक बार लिखने वाले ब्लॉगर के लिए यह पूरे साल की सामग्री है|

यहां पर आपने अपने लेखों को लेकर संपादन तो कर लिया है लेकिन उनको कैलेंडर में स्थान नहीं दिया है|

ऐसा करने के लिए आप गूगल कैलेंडर का इस्तेमाल कर सकते हैं इसके लिए माई कैलेंडर पर क्लिक करें |

image63

माय कैलंडर बनाएं” पर क्लिक करें और नाम, विवरण और समय ऐड करें । आप इस कैलेंडर को अपनी टीम के अन्य लोगों के साथ भी साझा कर सकते हैं।

यदि आपके पास टीम के सदस्य नहीं हैं, तो इसे अपने जीवनसाथी या किसी अच्छे दोस्त के साथ साझा कर सकते है , जो आपको आपके लक्ष्यों के पर चलने के लिए प्रेरित करता रहेगा ।

image36

आवश्यक जानकारी भरने के बाद, “कैलेंडर बनाएं” पर क्लिक करें और अपने नए सबसे अच्छे दोस्त से परिचित हों जाएँ |

सुनिश्चित करें कि आपका कैलेंडर बाएं साइडबार में से चुना गया है और अपने आपने शेड्यूल को साप्ताहिक कर लिया है |

image43

किसी भी एक दिन पर जाकर टाइम स्लॉट पर क्लिक करें और अपने चुने हुए ब्लॉग पोस्ट के शीर्षक को इवेंट शीर्षक में लिख दे| यहां पर मेरा सुझाव यह है कि आप कम से कम कुछ दिनों के शीर्षक कैलेंडर में पहले से ही डाल कर रखें|

image00

आप कैलेंडर के अंदर शीर्षक को अपने उपलब्ध समय के हिसाब से डाल रहे हैं तो यह ठीक नहीं है आपको सख्ताई से अपने संपादकीय कैलेंडर को फॉलो करना चाहिए|

अगर आप अपने संपादकीय कैलेंडर का सही से पालन नहीं करते हैं तो जल्दी ही आपके आईडिया ख़त्म जाएंगे, आप प्रेरणा भी खो देंगे और उस जूनून के बारे में भी भूल जाएंगे जो आपके मन में एक ब्लॉग बनाने के लिए उत्पन्न हुआ था।

संपादकीय कैलेंडर आलसी लोगों का सबसे अच्छा साथी है जिसके जरिए आप अपने सभी लेख समय से प्रकाशित कर पाएंगे और अपने पाठकों को अपनी ओर खींच पाएंगे|

नौवां कदम – अपने ब्लॉग से पैसा कमायें

आखरी कदम है अपने ब्लॉग से पैसा कमाना , हो सकता है की शरुआती दौर में आपके मन में अपने ब्लॉग से पैसा कमाने की इच्छा न हो, अगर ऐसा है तो यह एक अच्छी बात है |

ध्यान से सुनिए

पैसा बनाने की कुछ तरीके यह हो सकते हैं:

  • एक आईडिया के बारे में सोचिए
  • कोई नया उत्पाद बनाइए
  • उस उत्पाद को बेचने का प्रयास कीजिए
  • या दिवालिया घोषित हो जाइए

तरीके बहुत सारे लोगों के लिए कारगर साबित नहीं होते क्योंकि पैसा बनाना शुरु करने से पहले वह लोगों को अपने साथ नहीं जोड़ते हैं |

इसीलिए ब्लॉगिंग करना पैसा कमाने का एक बहुत अच्छा साधन है|

ऐसा करने से आप बहुत से लोगों को अपने साथ जोड़ सकते हैं जिसके बहुत से तरीके हो सकते हैं जैसे कि ईमेल भेजकर, दूसरे ब्लॉग पर कमेंट लिखकर या सोशल मीडिया के जरिए|

अपने पाठकों से पूछिए

ब्लॉगिंग लोगों के साथ जुड़ने में आपकी मदद करती है अगर आप अपने पसंदीदा ब्लॉगर के बारे में सोचेंगे तो आपको ऐसा लगेगा कि आप जाति तौर पर उन्हें जानते हैं |

ऐसा करने से आने आगे लिखे जाने वाले लेखों के बारे में रिसर्च करना भी आसान हो जाता है जैसे कि मैं अपने हर ब्लॉग पोस्ट के अंत में लोगों से कुछ सवाल करता हूं जिसका हजारों लोग कमेंट के जरिए जवाब भी देते हैं|

image53

इसके अतिरिक्त आप अपने श्रोताओं से जानकारी प्राप्त करने के लिए गूगल फॉर्म का उपयोग भी कर सकते हैं या फिर अपने श्रोताओं के पास ईमेल भी भेज सकते हैं जिससे आपको यह जानकारी मिलती है कि आपके श्रोता और क्या चाहते हैं|

एक ब्लॉग का निर्माण करके, आप संभावित ग्राहकों के साथ बात करने के लिए दरवाजे खोलते हैं। वे लोग जो आपको ईमानदार प्रतिक्रिया देंगे की वे आपसे क्या चाहते हैं ।

यदि आपके सर्वेक्षण के 90% लोगों ने आपको बताया है कि वे डिजिटल मार्केटिंग पर एक कोर्स चाहते हैं, तो आपको क्या लगता है कि उन्हें क्या चाहिए ?

और उस डिजिटल मार्केटिंग के कोर्स के लिए वह आपको पैसा देने के लिए भी तैयार होंगे|

विज्ञापनों से पैसे कमाएँ

यदि आप किसी उत्पाद या सेवा को नहीं बेचना चाहते हैं, तो आप वह भी कर सकते हैं जो अन्य प्रकाशक कर रहे हैं।

अपने ब्लॉग पर विज्ञापन के लिए स्थान बेच सकते है |

कोई भी व्यक्ति गूगल एडसेंस का उपयोग करके अपने ब्लॉग पर विज्ञापन डाल सकता है। लेकिन, असली पैसा निजी तौर पर विज्ञापन बेचने से आता है।

यदि आप एक ऐसा ब्लॉग बना लेते जिस पर बहुत सारे लोग आता है , तो आप अपनी वेबसाइट पर बड़ी बड़ी कंपनियों को विज्ञापन स्थान बेचकर सथाई आय का स्तोत्र बना सकते हैं। आपको केवल एक काम करना है उन कंपनियों का बैनर अपने साथ जोड़ना और वह करना जो आप सबसे अच्छी तरीके से करना जानते हैं यानी कि अपने जुनून या विशेषता के बारे में लिखना|

भौतिक उत्पाद बेचना

एक और विषय जिसको मैंने देखा वह है न्यूट्रीशन|

मेक और मैंने मिलकर बिल्कुल शुरुआत से एक लोगो बनाया जो $100000 प्रति महीने बनाता है इस ब्लॉग के जरिए हम लोग अमेजॉन वेबसाइट पर फिश ऑयल बेचते हैं|

image10

हमारी सफलता मुख्य रूप से हमारे ब्लॉग के कारण थी। हमने शानदार लेख प्रकाशित किये , अपने दर्शकों की ज़रूरतों को समझा और उन्हें अपने अमेज़न बिक्री पेज पर भेज दिया ।

अपने ब्लॉग के द्वारा पैसा कमाने को अंतिम चरण में रखा गया है क्योंकि बिल्कुल शुरुआती दौर में आपके मन में लोगों को अपने साथ जोड़ने की इच्छा होनी चाहिए ना कि पैसा कमाने की|

जैसे जैसे आप पाठकों को अपने साथ जुड़ते जाएंगे आपके पाठक खुद ब खुद अपनी राय बता कर आपको सही राह दिखाने लगेंगे|

अगर आप ब्लॉगिंग के जरिए पैसा कमाना चाहते हैं तो आपको आपके पाठकों द्वारा दी गए राय का पालन करना होगा और उनके द्वारा सुझाए गए तरीकों पर चलना होगा|

निष्कर्ष

ब्लॉग को शुरू करना आसान हो सकता है लेकिन एक ऐसा ब्लॉग बनाना जो सफल हो और जिसके जरिए आप पैसा भी कमा सके उसके लिए आपको कड़ी मेहनत, समर्पण और धैर्य की आवश्यकता होती है|

लेकिन ध्यान रखें हमेशा जोखिम उठाने से ही सफलता प्राप्त होती है|

आज के जमाने में ब्लॉगिंग पहले के मुकाबले कहीं ज्यादा सस्ती और सुलभ है|

ऐसा जरूर होगा की किसी भी चीज की तरह आपके जीवन में भी ऐसी बाधाएं जरूर होगी जो आपको ब्लॉगिंग से दूर करने का प्रयास करेंगे लेकिन मैं आपको आप के जुनून के साथ आगे बढ़ते रहने के लिए प्रेरित करता रहूंगा|

शुरुआत करने के लिए जो कुछ भी आपको चाहिए था वह यहां उपलब्ध है…

जब आप एक ब्लॉग की शुरुआत कर रहे हैं तो इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि आप दूसरे लोगों के साथ ही संवाद कर रहे हैं|

और इस संवाद को करते समय आपको ईमानदार और पारदर्शी होना पड़ेगा|

जैसे जैसे आप बढ़िया लेख प्रकाशित करते जाएंगे तो लोग आपके साथ जुड़ेंगे, आपकी बातों को सुनेंगे और उनका जवाब भी देंगे|

Share